Monday, September 28, 2009

खुदा किसी और को बनाओ

ज़ालीम है तनहाई जो,
थोड़ा कुछ तो गुनगुनाओ|

बेराज़ है ज़िन्दगी जो,
ना-मालूम का ज़ीक्र ले आओ|

वारदात है कायनात जो,
वजह किसी और से जताओ|

मुझे भी ईमान चाहिए,
खुदा किसी और को बनाओ|

-हर्षल पंड्या.
Pl excuse me for spelling errors while typing in hindi.


Zaalim hai tanhayee jo,
Thoda kuch toh gungunao.

Beraaz hai zindagi jo,
Na-maloom ka zikr le aao.

Waardaat hai kaainaat jo,
Wajaah kisi aur se jatao.

Mujhe bhi imaan chaahiye,
Khuda kisi aur ko banao.

-Hershal Pandya.

28/9/09.



Thanks to Max Babi for tearing off my immature(relatively) lines. I hope he likes this. Thanks to Ashika Vyas and Shilpa Bhatt/Desai too.

No comments: